Latest For Me

PAK-चीन से टेंशन के बीच सरकार का बड़ा कदम, SCO बैठक के लिए विदेश मंत्रियों को भेजा न्योता

pak-चीन-से-टेंशन-के-बीच-सरकार-का-बड़ा-कदम,-sco-बैठक-के-लिए-विदेश-मंत्रियों-को-भेजा-न्योता

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशPAK-चीन से टेंशन के बीच सरकार का बड़ा कदम, SCO बैठक के लिए विदेश मंत्रियों को भेजा न्योता

भारत आठ देशों वाले एससीओ का वर्तमान में अध्यक्ष है। भुट्टो जरदारी बैठक में शामिल होंगे या नहीं इस बारे में अभी कोई संकेत नहीं मिला है। सूत्रों ने कहा कि आमंत्रण निर्धारित प्रक्रिया के तहत भेजे गए थे।

PAK-चीन से टेंशन के बीच सरकार का बड़ा कदम, SCO बैठक के लिए विदेश मंत्रियों को भेजा न्योता

ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान और चीन से लंबे समय से चल रहे तनाव के बीच केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने पाकिस्तान के बिलावल भुट्टो जरदारी और चीन के किन गैंग समेत शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों को मई में होने वाली उच्च स्तरीय बैठक के लिए आमंत्रित किया है। सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी। एससीओ के विदेश मंत्रियों की बैठक मई के पहले सप्ताह में गोवा में होने की संभावना है। सूत्रों ने कहा कि भुट्टो जरदारी को आमंत्रण इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग द्वारा दिया गया। यह पता चला है कि मार्च में भारत द्वारा आयोजित की जाने वाली एससीओ देशों के प्रधान न्यायाधीशों की बैठक के लिए पाकिस्तानी प्रधान न्यायाधीश के कार्यालय को भी आमंत्रित किया गया है। 

SCO का वर्तमान में अध्यक्ष है भारत
भारत आठ देशों वाले एससीओ का वर्तमान में अध्यक्ष है। भुट्टो जरदारी बैठक में शामिल होंगे या नहीं इस बारे में अभी कोई संकेत नहीं मिला है। सूत्रों ने कहा कि आमंत्रण निर्धारित प्रक्रिया के तहत भेजे गए थे। यदि आमंत्रण स्वीकार किया जाता है, तो 2011 में हिना रब्बानी खार के बाद से किसी पाकिस्तानी विदेश मंत्री की यह पहली भारत यात्रा होगी। खार वर्तमान में विदेश राज्य मंत्री हैं। भुट्टो जरदारी को आमंत्रण पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ द्वारा भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय वार्ता की पेशकश के कुछ दिनों बाद भेजा गया था। शरीफ ने संयुक्त अरब अमीरात के अल अरबिया न्यूज चैनल से साक्षात्कार में इसका प्रस्ताव दिया था। 

2014 में शपथ ग्रहण समारोह में भारत आए थे शरीफ
हालांकि, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कार्यालय ने बाद में कहा कि कश्मीर पर 2019 की कार्रवाई को पलटे जाने तक भारत से बातचीत संभव नहीं है। मई 2014 में, तत्कालीन पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेने के लिए भारत का दौरा किया। दिसंबर 2015 में, तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान का दौरा किया और कुछ दिनों बाद, मोदी ने पड़ोसी देश का संक्षिप्त दौरा किया। जून 2001 में शंघाई में स्थापित एससीओ के आठ पूर्ण सदस्य हैं, जिनमें इसके छह संस्थापक सदस्य, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं। भारत और पाकिस्तान 2017 में पूर्ण सदस्य के रूप में शामिल हुए। 

Facebook
Twitter
LinkedIn
Pinterest

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top