Latest For Me

FACT CHECK:

fact-check:

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ फैक्ट चेकFACT CHECK: ‘बेशर्म रंग’ पर डांस करता यह शख्स बिलावल भुट्टो? जानें वायरल वीडियो का सच

वायरल वीडियो में डांस कर रहे शख्स की पहचान मेहराज बेग के तौर पर हुई है जो कि कराची में मीडिया साइंस का स्टूडेंट है। इस वीडियो को सबसे पहले इंस्टाग्राम यूजर इनाया खान ने शेयर किया था।

FACT CHECK: 'बेशर्म रंग' पर डांस करता यह शख्स बिलावल भुट्टो? जानें वायरल वीडियो का सच

Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,इस्लामाबादSun, 22 Jan 2023 08:10 PM

ऐप पर पढ़ें

एक्टर शाहरुख खान की फिल्म पठान के गाने ‘बेशर्म रंग’ पर पाकिस्तानी शख्स के डांस का वीडियो वायरल हुआ है। इसमें एक व्यक्ति किसी महिला के साथ स्टेज पर थिरकता हुआ नजर आ रहा है। दरअसल, लोगों को यह गलतफहमी हो गई कि यह कोई और नहीं बल्कि, पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो हैं। फिर क्या था! यूजर्स ने बिलावल को लताड़ लगानी शुरू कर दी। एक यूजर ने तंज कसते हुए लिखा कि भुट्टो तो अच्छे डांसर हैं, बहुत अच्छे।

वायरल वीडियो में डांस कर रहे शख्स की पहचान मेहराज बेग के तौर पर हुई है जो कि कराची में मीडिया साइंस का स्टूडेंट है। वीडियो को सबसे पहले इंस्टाग्राम यूजर इनाया खान ने शेयर किया था, जिसमें वो बिलावल भुट्टो की तरह दिखने वाले शख्स के साथ डांस करती नजर आ रही हैं। इस ऑरिजनल वीडियो के कैप्शन में इनाया ने बताया कि यह डांस परफॉर्मेंस उनकी बहन की शादी में शूट किया गया था।

भुट्टों का एक और वीडियो हुआ था वायरल
कुछ दिनों पहले ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री भुट्टो का एक और वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह विश्व आर्थिक मंच की इमारत के बाहर धूम्रपान करते देखे गए थे। इस दौरान उनके बॉडीगार्ड्स उन पर नजर रखे हुए थे। साफ कर दें कि इस वीडियो में बिलावल ही थे, उनका कोई हमशक्ल नहीं था। वीडियो जब सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो इसे लेकर यूजर्स ने जमकर उनकी खिंचाई की और इस आदत से बाज आने की सलाह दी। 

भारत के खिलाफ जहर उगल रहे भुट्टो
मालूम हो कि बिलावल अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत के खिलाफ जहर उगलने को लेकर सुर्खियों में हैं। दिसंबर 2022 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और RSS के खिलाफ भुट्टो के निजी हमले के खिलाफ भाजपा ने देशव्यापी विरोध किया था। दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में बिलावल ने फिर से कश्मीर का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा कि यह विडंबना है कि UNSC के प्रस्तावों का यूरोप और पश्चिम के लिए बहुत महत्व है, लेकिन जब जम्मू और कश्मीर की बात आती है तो ‘वे कागज से ज्यादा कुछ नहीं हैं’।

Facebook
Twitter
LinkedIn
Pinterest

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top