Latest For Me

धरती के करीब आ रहा आज रात ट्रक के आकार का ऐस्टरॉइड, बनाएगा ये नया रिकॉर्ड

धरती-के-करीब-आ-रहा-आज-रात-ट्रक-के-आकार-का-ऐस्टरॉइड,-बनाएगा-ये नया-रिकॉर्ड

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशधरती के करीब आ रहा आज रात ट्रक के आकार का ऐस्टरॉइड, बनाएगा ये नया रिकॉर्ड

धरती के करीब आ रहा आज रात ट्रक के आकार का ऐस्टरॉइड, बनाएगा ये नया रिकॉर्ड

नासा ने बुधवार को कहा कि यह नया खोजा गया क्षुद्रग्रह दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी सिरे से 2,200 मील (3,600 KM) ऊपर ज़ूम करेगा। यह अंतरिक्ष में चक्कर लगाने वाले संचार उपग्रहों से 10 गुना ज्यादा करीब होगा।

धरती के करीब आ रहा आज रात ट्रक के आकार का ऐस्टरॉइड, बनाएगा ये नया रिकॉर्ड

ऐप पर पढ़ें

एक ट्रक के आकार का एक क्षुद्रग्रह (Asteroid ) आज (गुरुवार, 26 जनवरी) की रात पृथ्वी के पास से गुजरेगा। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने कहा है कि अब तक दर्ज किए गए आंकड़ों के मुताबिक यह क्षुद्रग्रह सबसे नज़दीक से पृथ्वी के पास से गुजरेगा। नासा ने इसे ‘Near Miss’करार दिया है और कहा है कि  क्षुद्रग्रह के पृथ्वी से टकराने की कोई संभावना नहीं है।

नासा ने बुधवार को कहा कि यह नया खोजा गया क्षुद्रग्रह दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी सिरे से 2,200 मील (3,600 किलोमीटर) ऊपर ज़ूम करेगा। यह अंतरिक्ष में चक्कर लगाने वाले संचार उपग्रहों से 10 गुना ज्यादा करीब होगा। नासा के मुताबिक ये क्षुद्रग्रह शाम 7:27 बजे(Eastern Standard Time- EST) और स्थानीय समयानुसार 9:27 बजे अपराह्न पृथ्वी के सबसे करीब होगा। 

वैज्ञानिकों ने कहा है कि भले ही क्षुद्रग्रह के रूप में अंतरिक्ष का यह चट्टान धरती के बहुत करीब आ जाए, लेकिन इसका अधिकांश भाग वायुमंडल में ही जल जाएगा। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के मुताबिक, कुछ बड़े टुकड़े संभवतः उल्कापिंडों के रूप में धरती पर गिर सकते हैं।

नासा के हैज़र्ड असेसमेंट सिस्टम की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी के एक इंजीनियर डेविड फार्नोचिया ने एस्टरॉयड के पृथ्वी से किसी तरह के टक्कर से इनकार किया है। 

2023 BU के रूप में जाने जाने वाले इस क्षुद्रग्रह का आकार 11 फीट (3.5 मीटर) गुने 28 फीट (8.5 मीटर) के बीच माना गया है। इसे पहली बार क्रीमिया में उसी शौकिया खगोलशास्त्री गेन्नेडी बोरिसोव ने देखा था, जिन्होंने 2019 में एक इंटरस्टेलर धूमकेतु की खोज की थी। उसके कुछ ही दिनों बाद दुनिया भर के खगोलविदों द्वारा दर्जनों धूमकेतु के अवलोकन किए गए थे। इससे उन्हें क्षुद्रग्रह की कक्षा को निर्धारित करने में मदद मिली थी।

Facebook
Twitter
LinkedIn
Pinterest

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top