Latest For Me

छह हजार रुपये नहीं दें तो वोट मत दीजिए, कर्नाटक बीजेपी नेता के बयान से बवाल; कांग्रेस भड़की

छह-हजार-रुपये-नहीं-दें-तो-वोट-मत-दीजिए,-कर्नाटक-बीजेपी-नेता-के-बयान-से-बवाल;-कांग्रेस-भड़की

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशछह हजार रुपये नहीं दें तो वोट मत दीजिए, कर्नाटक बीजेपी नेता के बयान से बवाल; कांग्रेस भड़की

छह हजार रुपये नहीं दें तो वोट मत दीजिए, कर्नाटक बीजेपी नेता के बयान से बवाल; कांग्रेस भड़की

राज्य के पूर्व मंत्री ने कहा, “मैं देख रहा हूं कि वह निर्वाचन क्षेत्र में अपने मतदाताओं को गिफ्ट बांट रही हैं। अब तक, उन्होंने लगभग 1,000 रुपये मूल्य के रसोई के उपकरण जैसे कुकर और मिक्सर दिए होंगे।”

छह हजार रुपये नहीं दें तो वोट मत दीजिए, कर्नाटक बीजेपी नेता के बयान से बवाल; कांग्रेस भड़की

Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,बेंगलुरुSun, 22 Jan 2023 09:24 PM

ऐप पर पढ़ें

कर्नाटक में बीजेपी के एक पूर्व मंत्री ने एक विवादित टिप्पणी की है। राज्य के पूर्व जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली ने घोषणा की है कि मई में होने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा प्रति वोट 6,000 रुपये देगी। सेक्स स्कैंडल में कथित भूमिका के लिए 2021 में इस्तीफा देने के लिए मजबूर किए गए पूर्व मंत्री के बयान से भाजपा ने तुरंत खुद को दूर कर लिया। रैली का आयोजन पूर्व मंत्री के समर्थकों ने बेलगावी के सुलेबावी गांव में किया था। पूर्व मंत्री की टिप्पणी कांग्रेस विधायक लक्ष्मी हेब्बलकर पर उनके हमले के दौरान आई थी।

कांग्रेस की लक्ष्मी हेब्बलकर बेलगावी जिले से बेलागवी ग्रामीण निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती हैं, जबकि रमेश जारकीहोली बेलगावी में गोकक निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। राज्य के पूर्व मंत्री ने कहा, “मैं देख रहा हूं कि वह निर्वाचन क्षेत्र में अपने मतदाताओं को गिफ्ट बांट रही हैं। अब तक, उन्होंने लगभग 1,000 रुपये मूल्य के रसोई के उपकरण जैसे कुकर और मिक्सर दिए होंगे। वह उपहार का एक और सेट दे सकती हैं। इन सभी को मिलाकर लगभग तीन हजार रुपये खर्च हो सकते हैं।” उन्होंने आगे कहा कि मैं आपसे आग्रह करता हूं कि अगर हम आपको 6,000 रुपये नहीं देते हैं तो हमारे उम्मीदवार को वोट न दें।”

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, सिंचाई मंत्री गोविंद करजोल ने बयान जारी किया है। उन्होंने कहा, “हमारी पार्टी में इस तरह की चीजों के लिए कोई जगह नहीं है। हमारी पार्टी एक विचारधारा पर बनी है, जिसके कारण यह देश की सत्ता में आई है और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दूसरी बार स्पष्ट बहुमत के साथ सत्ता में आई है।” मंत्री ने कहा, “2023 के चुनावों में भी हम स्पष्ट बहुमत के साथ सत्ता में आएंगे।”

बयान से बीजेपी ने किया किनारा
उन्होंने आगे कहा, “अगर कोई व्यक्ति बयान देता है तो यह पार्टी का बयान नहीं है। यह उनका निजी मामला है।” कांग्रेस ने मांग की कि चुनाव आयोग पूर्व मंत्री की टिप्पणियों पर ध्यान दे। कांग्रेस विधायक प्रियांक खड़गे ने कहा, “यह भाजपा में भ्रष्टाचार के स्तर को दिखाता है। चुनाव आयोग या आईटी या ईडी इस पर ध्यान क्यों नहीं दे रहे हैं?” उन्होंने आगे बताया कि ऑपरेशन लोटस फैक्ट है। उसे वह इंडोर्स कर रहे हैं। ढाई लाख वोटर हैं। यह मजाक नहीं है। क्या यह भाजपा नेता का अनाचार नहीं है? बीजेपी के पास इतना पैसा कहां से आ रहा है ?? चुनाव आयोग द्वारा कोई स्वत: संज्ञान (जांच) क्यों नहीं? 

‘चुनाव में ऐसी ही योजना बना रही बीजेपी’
कांग्रेस एमएलसी नागराज यादव ने कहा, “रमेश ने जो कहा है वह असंवैधानिक है। आचार संहिता अभी तक लागू नहीं हुई है। एक बार जब ऐसा हो जाता है, अगर इस तरह के बयान दोहराए जाते हैं, तो उन्हें या भाजपा के किसी भी व्यक्ति को प्रतिबंधित किया जाना चाहिए।” उन्होंने आगे कहा, “भाजपा के सभी विधायक 40 प्रतिशत भ्रष्टाचार करके पार्टी में जीवित हैं। उन्होंने रिश्वत के माध्यम से पर्याप्त राशि एकत्र की है। भाजपा अब चुनावों के दौरान भी ऐसा ही करने की योजना बना रही है। मैं चुनाव आयोग से इस मामले को देखने की मांग करता हूं।”

Facebook
Twitter
LinkedIn
Pinterest

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top