Latest For Me

गाय के गोबर से बने घर परमाणु हमले में सेफ, फैसला सुनाते हुए गुजरात के कोर्ट की टिप्पणी

गाय-के-गोबर-से-बने-घर-परमाणु-हमले-में-सेफ,-फैसला-सुनाते-हुए-गुजरात-के-कोर्ट-की-टिप्पणी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशगाय के गोबर से बने घर परमाणु हमले में सेफ, फैसला सुनाते हुए गुजरात के कोर्ट की टिप्पणी

गाय के गोबर से बने घर परमाणु हमले में सेफ, फैसला सुनाते हुए गुजरात के कोर्ट की टिप्पणी

गुजरात की एक अदालत ने गौ तस्करी के मामले में फैसला करते हुए कुछ खास टिप्पणियां की हैं। कोर्ट ने कहा कि जिस दिन गाय के खून की एक बूंद भी धरती पर नहीं गिरेगी, उस सभी समस्याएं सुलझ जाएंगी।

गाय के गोबर से बने घर परमाणु हमले में सेफ, फैसला सुनाते हुए गुजरात के कोर्ट की टिप्पणी

Deepakलाइव हिंदुस्तान,वापीSun, 22 Jan 2023 09:40 PM

ऐप पर पढ़ें

गुजरात की एक अदालत ने गौ तस्करी के मामले में फैसला सुनाते हुए कुछ खास टिप्पणियां की हैं। कोर्ट ने कहा कि जिस दिन गाय के खून की एक बूंद भी धरती पर नहीं गिरेगी, उस दिन सभी समस्याएं सुलझ जाएंगी। गुजरात के तापी जिले की एक अदालत में सेशन जज एसवी व्यास की अध्यक्षता वाली बेंच ने यह टिप्पणी की। साथ ही कोर्ट ने यह भी कह डाला कि विज्ञान ने साबित कर दिया है कि गाय के गोबर से बने घर परमाणु हमले में सेफ रहते हैं। बेंच ने हाल ही में महाराष्ट्र राज्य से मवेशियों को अवैध रूप से ले जाने के आरोप में एक 22 वर्षीय व्यक्ति को आजीवन कारावास की सजा सुनाते हुए यह बातें कहीं। 

लोग गाय की तस्वीरें बनाना भूल जाएंगे
अदालत ने कहा कि एक समय आएगा जब लोग गायों की तस्वीरें बनाना भूल जाएंगे। आजादी के 70 साल से अधिक का समय बीत चुका है। न केवल गौहत्या बंद नहीं हुई है बल्कि यह अपने चरम पर पहुंच रही है। आज जो समस्याएं हैं, वे इसलिए हैं कि चिड़चिड़ापन और गर्म स्वभाव बढ़ रहा है। इस बढ़ोतरी का एकमात्र कारण गायों का वध है। जब तक यह पूरी तरह से प्रतिबंधित नहीं हो जाता, तब तक सात्विक जलवायु का प्रभाव नहीं हो सकता। अदालत ने यह टिप्पणियां मोहम्मद आमीन आरिफ अंजुम के मामले की सुनवाई के दौरान कीं। इस शख्स को जुलाई 2020 में एक ट्रक में 16 से अधिक गायों और गोवंश को अवैध रूप से ले जाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। यह भी आरोप लगाया गया कि गायों को भोजन या पानी की कोई सुविधा नहीं होने के कारण रस्सी से बांध दिया गया था। 

गाय सिर्फ जानवर नहीं
हत्या और अवैध परिवहन की घटनाओं को सभ्य समाज के लिए शर्मनाक बताते हुए कोर्ट ने कहा कि गाय केवल एक जानवर नहीं है, बल्कि यह मां है, इसलिए इसे मां का नाम दिया गया है। गाय जितना कोई भी कृतज्ञ नहीं है। एक गाय 68 करोड़ पवित्र स्थानों और तैंतीस करोड़ देवता का जीवित ग्रह है। कोर्ट ने कहा कि पूरे ब्रह्मांड पर एक गाय का दायित्व वर्णन की अवहेलना करता है। जिस दिन गाय के रक्त की एक बूंद भी पृथ्वी पर नहीं गिरेगी, पृथ्वी की सभी समस्याएं हल हो जाएंगी और पृथ्वी की भलाई स्थापित हो जाएगी। गोरक्षा और गौ पालन की बहुत बातें करते हैं लेकिन उसे अमल में नहीं लाते। कोर्ट ने संस्कृत के एक श्लोक को भी उद्धृत किया जिसमें कहा गया कि अगर गाय विलुप्त हो जाती हैं तो ब्रह्मांड का अस्तित्व भी समाप्त हो जाएगा और वेद के सभी छह अंगों की उत्पत्ति गायों के कारण हुई है।

Facebook
Twitter
LinkedIn
Pinterest

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top